भेड़ के पीछे भेड़ न बने

Nov 9 • Arya Samaj • 614 Views • No Comments

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...

भेड़ के पीछे भेड़ न बने

डॉ विवेक आर्य

(पाखंड खंडन)

आधुनिक समाज में मनुष्य जाति में धन-धान्य रुपी प्रगति के साथ साथ मानसिक अशांति,भय,अशक्त भावों का बढ़ना,नैतिक एवं चारित्रिक मूल्यों का हनन भी बड़े पैमाने पर हुआ हैं। इसका मुख्य कारण मनुष्य का अध्यात्मिक उन्नति में प्रगति न होना एवं भोगवाद में लिप्त होना हैं। आज का मनुष्य किसी भी प्रकार से धनी होना चाहता है। इसके लिए उसे चाहे कितने भी गलत कार्य करने पड़े, चाहे भ्रष्टाचार में लिप्त होना पड़े, चाहे किसी भी सीमा तक जाना पड़े पर धन कमाना ही जीवन का मूलभूत उद्देश्य बन गया है। इसी अंधी दौड़ का एक दुष्प्रभाव (Side effect) अन्धविश्वास है. जो लोग किसी भी प्रकार से भौतिक उन्नति कर लेते है वे इस भय से अन्धविश्वास में लिप्त भी हो जाते है। उनका मानना होता है कि अन्धविश्वास का पालन करने से उनकी भौतिक उन्नति बनी रहेगी। कुछ लोग उनकी भौतिक उन्नति से प्रभावित होकर उनके द्वारा किये गए अन्धविश्वास की नक़ल करते है जिससे उनका भी भला हो जाये। इस अंधी दौड़ का एक उदहारण आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्य मंत्री दिवंगत श्री राजशेखर रेड्डी का है। उनके द्वारा करी गयी राजनैतिक एवं आर्थिक उन्नति का श्रेय उनका धर्म परिवर्तन कर ईसाई बनना बताया गया था। उनके इस धर्म परिवर्तन से रेड्डी समाज में व्यापक स्तर पर धर्म परिवर्तन कर ईसाई बनने की होड़ ही लग गयी थी। उनकी अकस्मात् मृत्यु से उन सभी अंधभक्तो को बड़ा धक्का लगा, कई सौ के मन में इतनी घोर निराशा उत्पन्न हुई की उन्होंने आत्महत्या तक कर ली। उन्हें लगा की उनके जीवन का उद्देश्य उनकी मृत्यु के साथ ही खत्म हो गया।

आधुनिक मीडिया का सहारा लेकर मार्केटिंग करने वाले निर्मल बाबा का नाम आजकल खासी चर्चा में है। किसी को समोसे की चटनी खिलाकर , किसी को काले रंग का नया पर्स खरीदवाकर, किसी को गोल-गप्पे खाने का प्रलोभन देकर आप जीवन की कठिनाइयों का समाधान बता रहे है। इस प्रकार के समाधान बताने के लिए निर्मल बाबा अपनी तीसरी आंख (Third eye) का प्रयोग करते है और उसी के प्रभाव से समस्याओं का समाधान करते है। उनसे सवाल पूछने के लिए दर्शकों को कई हज़ार की महंगी टिकट खरीदनी पड़ती है। हद तो तब हो गयी जब उन्होंने एक दर्शक से पूछा की शराब पीते हो उसने कहाँ की हाँ, जाओ जाकर काल भैरव को दो बोतल अर्पित कर दो और दो खुद पी लो कल्याण हो जायेगा ,कृपा बरसेगी। मीडिया का सहारा लेकर अपनी दुकानदारी चमकाने वाले निर्मल बाबा की दुकानदारी को सबसे बड़ी चोट भी खुद मीडिया ने उनके ऊपर खबरे प्रसारित कर लगाई है। कुछ हिन्दुत्व के ठेकेदारों ने निर्मल बाबा पर मीडिया की प्रतिक्रिया को गैर हिन्दू मीडिया द्वारा हिन्दू बाबा को निशाना बनाना बताया है जबकि सत्य यह हैं की निर्मल बाबा हिन्दू समाज में व्यापक रूप में फैले हुए अन्धविश्वास का ही एक पहलु मात्र है। अभी तक जितने भी बाबा अपने आशीर्वाद से ,भभूति से,रुद्राक्ष की माला से, बाबा के नाम स्मरण से, व्रत आदि से, मंत्र तंत्र से, पशु बलि अथवा नरबली से,बाबा के चित्र, माला आदि से चमत्कार का होना बताते थे। निर्मल बाबा से इस चमत्कारी रुपी बाज़ार में सबसे आसान, सबसे जल्दी पूरा होने वाला, सबसे कम परिश्रम वाला तरीका अपनाकर अपनी दुकान मीडिया के कन्धों पर खड़ी की है। जिससे उन्हें इतनी अत्यधिक सफलता मिली की धन की वर्षा उनके भक्तों पर हुई हो न हुई हो पर उन पर अवश्य हो गयी है। आगे निर्मल बाबा कृपा बरसने पर दसबंध के आधार पर अपनी कमाई का 10% दान देने को भी कहते है। निर्मल बाबा सबसे अधिक संदेह के घेरे में इसलिए है क्यूंकि वे खुद एक असफल व्यापारी रह चुके है और अब लोगो का व्यापार सफल बनाने करने का दावा करते है।

आगे ईसाई समाज से सम्बंधित पॉल दिनाकरन का वर्णन करते है। मुझे करीब 13 वर्ष पहले कोयम्बतूर तमिलनाडू में इनकी सभा में भाग लेने का अवसर प्राप्त हुआ था। जहाँ पर यह प्रचारित किया जा रहा था की पॉल दिनाकरन महोदय सीधे प्रभु यीशु मसीह से बातचीत है और उनके प्रताप से जो भी “जीसस काल्स” के नाम से उनकी प्रार्थना सभा में भाग लेगा। उसके सभी दुःख दूर हो जायेगे। सभी के बिगड़े काम बन जायेगे। रोगी निरोगी बन जायेगे। बेरोजगारों को नौकरी मिल जाएगी। प्रभु जीसस उन सभी पर कृपा करते है जो उन पर विश्वास लाते है। पॉल महोदय भी निर्मल बाबा की तरह अपने कार्यक्रमों में निर्धारित फीस लेते है और उस व्यक्ति पर कृपा बरस जाने पर उसे जो फायदा होता है उसका 10% उन्हें दान में देने की अपील करते है।
इन पॉल महोदय से हमारे कुछ प्रश्न है?

1. आपके अनुसार अगर ईसाइयत में विश्वास लाने वाले की काया पलट हो सकती हैं तो अफ्रीका महाद्वीप में जहाँ पर उत्तर और पश्चिमी अफ्रीका को छोड़कर मध्य, पूर्वी और दक्षिणी अफ्रीका मुख्यत: ईसाई मत को मानने वालो में से विश्व के सबसे निर्धन कुछ देश क्यूँ हैं?

2. ईसाई मत के कई सौ वर्षों के प्रचार के बावजूद उनकी प्रगति का न होना संदेह के घेरे में लाता है। सबसे अधिक संदेह प्रार्थना से चंगाई की ईसाई मान्यता का है। प्रभु जीसस और प्रार्थना से चंगाई में विश्वास रखने वाली मदर टेरेसा खुद विदेश जाकर तीन बार आँखों एवं दिल की शल्य चिकित्सा करवा चुकी थी। क्या उनको प्रभु ईशु अथवा अन्य ईसाई संतो की प्रार्थना कर चंगा होने का विश्वास नहीं था? दिवंगत पोप जॉन पॉल स्वयं पार्किन्सन रोग से पीड़ित थे और चलने फिरने में भी असमर्थ थे। क्यों उन पर किसी भी ईसाई संत की प्रार्थना से कृपा नहीं हुई? जब ईसाई मत के दो सबसे बड़े सदस्यों पर जिन्होंने पूरा जीवन ईसाई मत को समर्पित कर दिया की प्रार्थना से चंगाई न हुई, तो आम जनता का क्या भला होगा? इसलिए प्रार्थना से चंगाई अन्धविश्वास के अलावा कुछ भी नहीं है। यह प्रपंच केवल और केवल धर्म भीरु हिन्दू जनता को मुर्ख बनाकर, अन्धविश्वास में रखकर उनका धर्मांतरण करने का षडयन्त्र मात्र है।

आगे अजमेर स्थित ख्वाजा मुइनुद्दीन चिस्ती उर्फ़ गरीब नवाज़ का वर्णन करते है। तमाम फिल्मी हस्तियाँ और क्रिकेट सितारों ने तो एक फैशन सा ही बना लिया है कि किसी भी फ़िल्म के रिलीज़ होने से पहले अथवा क्रिकेट टूर्नामेंट से पहले वे अजमेर स्थित गरीब नवाज़ की दरगाह पर जाकर मन्नत मांगते है। उनका मानना है की केवल एक खवाजा ही है जोकि उनके जीवन में आने वाली सभी परेशानियों को दूर कर सकते है। उन्हें सफलता दिला सकते है। फिल्मकार और सितारे को देखकर हिन्दू समाज के सदस्यों में भी एक भेड़ चाल शुरू हो गयी है। वे सोचते है की हम भी चले हमारा भी भला होगा। वे यह तक नहीं जानते की ख्वाजा भारत के अंतिम हिन्दू राजा पृथ्वीराज चौहान को इस्लामिक सेना से हराने की भविष्यवाणी करने वाला सबसे पहला व्यक्ति था। भारत पर हमला कर लाखों हिन्दुओं को मारने वाले, सैकड़ों हिन्दू मंदिरों को नष्ट करने वाले, लाखों को इस्लाम ग्रहण करवाने वाले मुहम्मद गौरी का अध्यात्मिक गुरु और मार्ग दर्शक भी था। ऐसे व्यक्ति की कब्र पर हिन्दू समाज माथा टेककर अपने परिवार की भलाई मांगता है। अपनी बच्चों की खुशहाली मांगता है।

अन्धविश्वास की ऐसी पराकाष्ठा आपको शायद ही विश्व में कहीं और देखने और सुनने को मिलेगी।

निर्मल बाबा अथवा पॉल दिनाकरन अथवा अजमेर के ख्वाजा गरीब नवाज़ हो अथवा इनके समान और कोई भी हो जो भी चमत्कार से, किसी भी प्रकार के शोर्ट कट (short cut ) से आपकी समस्या का समाधान करने का दावा करता हो। तो वह चमत्कारी नहीं अपितु ढोंगी है। कर्म फल के अटूट सिद्धांत से आज तक कोई भी नहीं बच सका है। जो जैसा बोयेगा वैसा ही काटेगा। अगर किसी भी व्यक्ति को जीवन में अत्यंत छोटे समय में आशा से अधिक सफलता मिलती है तो उसमे उसके पूर्वजन्मों और वर्तमान में किये गए कर्मों का प्रभाव है। अगर किसी को श्रम करने का बावजूद सफलता नहीं मिलती तो भी इसमें पूर्वजन्मों में किये गए कर्मों का ही प्रभाव है। इसलिए धैर्य रखे और इस अन्धविश्वास की दुकान से बचे। इस जन्म में उचित कर्म करते रहे उसका फल निश्चित रूप से कल्याणकारी ही होगा।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)

« »

Wordpress themes