Categories

Posts

जन्म-मरण धर्मा जीवात्मा

  अपश्य गोपामनिपद्यमानमा च परा च पथिभिश्च्रन्तं| स सध्रीची: स विशुचिवसान आ भुवव्नेष्वंत: || ऋग्वेद १०/१७७/3 अर्थ- मैं (गोपाम`) इन्द्रियों के स्वामी (अनिपद्यमानम) अविनश्वर, नित्य (आ च परा च) शारीर…

ईश्वर के नाम पर भिन्नता और विवाद क्यों?

स्वामी स्वरूपानन्दजी का षिरडी के सांई बाबा को लेकर एक बयान इन दिनों चर्चा में है। उन्होंने षिरडी के   सांई बाबा को ईष्वर न मानने और उनका मन्दिर न बनाने…

साई बाबा का विरोध कितना सही कितना गलत

साईं बाबा के नाम को सुर्ख़ियों में लाने का श्रेय शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद जी को जाता हैं जिनका कहना हैं की साई बाबा की पूजा हिन्दू समाज को नहीं करनी…

ईश्वर भक्ति से मिलती है दुखों से मुक्ति

कोटा, 24 जून। ईश्वर की भक्ति त्रिविध दुखों से मुक्ति दिलाती है। आधि दैविक, आधि भौतिक और आध्यात्मिक तीन प्रकार से मिलने वाले दुखों को दूर करने का एकमात्र उपाय…