Categories

Posts

महर्षि दयानन्द के सत्यार्थ प्रकाश आदि ग्रन्थ आध्यात्मिक व सामाजिक

महर्षि दयानन्द सरस्वती ने सच्चे शिव की खोज में 18 वर्ष की अवस्था में अपने घर व परिवार का परित्याग किया। घर पर रहकर वह अपना उद्देश्य पूरा नहीं कर…

बाइबल की संकीर्णता और अंग्रेज़ की आक्रामकता

प्रवेश (अनुरोध: आलेख धीरे-धीरे आत्मसात कर के पढ़ें) **अंग्रेज़ों ने रामायण और महाभारत इतिहास नहीं, पर महाकाव्य माने। क्यों? **वेदों का भी मात्र १०००-१५०० ईसा पूर्व ही, माना। क्यों? **उपनिषदों…

अज्ञानियों की दुर्गति

इमे ये नार्वाड्.न परश्चरन्ति न ब्राहाणसो सुतेकरासः। त एते वाचमभिपध पापया सिरीस्तन्त्रं तन्वते अप्रजज्ञयः।। ऋग्वेद 10/71/9   अर्थ -(इमे ये ) ये जो अविद्वान (अवार्डन न ) न तो इस…

होली का पर्व और वैदिक धर्म’

फाल्गुन मास की पूर्णिमा को  मनाये  जाने  वाले  पर्व होली का प्राचीन नाम ‘‘वासन्ती नवसस्येष्टि’’ है। यह उत्सव-पर्व वसन्त ऋतु के आगमन पर मनाया जाता है। चैत्र कृष्ण पक्ष की…

नव वर्ष २०१४ पर आज हम कोई शुभ-संकल्प लें

नया वर्ष २०१४ आरम्‍भ हो रहा है।  आज प्रथम दिवस के अवसर पर हम जहां अपने मित्रों, परिवारजनों और परिचितों को नये वर्ष की शुभकामनायें दे वहां हम समझते हैं…