Categories

Posts

धर्म, दलित और ईसाइयत क्या है झोल..?

धर्म जब तक निजी अनुभव तक सिमित रहे धर्म रहता है लेकिन जब धर्म के नाम के सहारे साम्राज्य खड़ा किया जाने लगे जबदस्ती या बहला फुसलाकर झुण्ड तैयार किये…

झारखण्ड में सरकार बदलने से मिशनरीज खुश क्यों..?

झारखण्ड में सरकार बदले एक हफ्ता भी नहीं हुआ है पर लोगों के सुर बदलने शुरू हो गये रांची धर्मप्रांत के आर्च बिशप फेलिक्स टोप्पो ने बिशप हाउस में पत्रकारों…