Categories

Posts

अरसे बाद अच्छी खबर

बढती अर्थव्यवस्था, चौतरफा होता विकास इक्कीसवीं सदी में नया भारत लगातार वैश्विक मानचित्र में नए मानक गढ़ कर पूरी दुनिया के सामने नये रूप में हाजिर हुआ है। परन्तु दूसरी और यदि ये भी कहा जाये कि कि आज भी हर 5 भारतीय में से 1 भारतीय छुआछूत को मानता है, तो चौकना स्वाभाविक है। किन्तु इस सच से न तो आप मुंह मोड़ सकते हैं और न ही हम। क्योंकि अभी हाल ही में राजस्थान के धौलपुर जिले की आईएएस नेहा गिरी ने अपने इलाके में जब छूआछूत को देखा तो वह भी चौक गयी। दरअसल मनरेगा के तहत चल रहे एक सरकारी कार्य का निरीक्षण करने के लिए जब डीएम नेहा गिरी पहुंचीं तो उन्होंने देखा कि एक महिला अपने बच्चे के साथ काम पर लगी है, जबकि उससे हट्टा-कट्टा आदमी वहां पानी पिलाने का काम कर रहा है।

इसे देखकर जब उन्होंने इसका कारण पूछा तब पता चला कि वह महिला छोटी जाति से आती है इसलिए कोई उसके हाथ से पानी नहीं पीता। यह सुनकर डीएम नेहा गिरी ने मौजूद लोगों को जमकर लताड़ लगाई और उस महिला के हाथों पानी भी पिया. और गांव के लोगों को समझाया कि छुआछूत जैसी कोई चीज नहीं होती है और हर इंसान बराबर होता है। साल 2010 बैच की आईएएस अफसर नेहा गिरी इसके पहले बूंदी और प्रतापगढ़ जिले की कलेक्टर रह चुकी हैं।  फिलहाल धौलपुर जिले में डीएम की जिम्मेदारी संभाल रही हैं।

देखा जाये तो भारतीय संस्कृति का मूलमंत्र मनुर्भव है। किन्तु यह ऊँच-नीच की भावना रूपी हवा के झोंके से बुरी तरह बिखर गया और धीरे-धीरे समाज के लिए एक भीषण कलंक बन गया। इस पूरी घटना को सुनने के बाद ध्यान देने के लायक यह बात भी है कि भारत में संविधान छुआछूत को बहुत सालों पहले ही खत्म कर चुका है पर आज भी अनेकों जगह लोगों के मन में यह कुप्रथा बसी हुई है। अक्सर जातिवाद, छुआछूत और उच्च और निम्न वर्ग के मुद्दे को लेकर धर्मशास्त्रों को दोषी ठहराया जाता है, लेकिन यह बिल्कुल ही असत्य है। क्योंकि जातिवाद छुआछुत प्रत्येक धर्म, समाज और देश में है। हर धर्म का व्यक्ति अपने ही धर्म के लोगों को ऊंचा या नीचा मानता है।

जब छुआछुत की बात आती है तो बहुतेरे लोग यह सोचते है कि यह कथित ऊँची और निम्न जाति के बीच का फासला है। छुआछुत में दो चार अगड़ी जातियों का नाम लेकर अक्सर यह भ्रम भी समाज में फैलाया जाता है जबकि दलित और पिछड़ी जातियां आपस में छुआछूत मानती हैं। थोड़े समय पहले की एक घटना ने इस सब से पर्दा हटा दिया था। उत्तर प्रदेश के छिबरामऊ के एक सरकारी मिडिल स्कूल में उपद्रव हो गया था यहाँ दलित बस्ती में रहने वाली शांति देवी वाल्मीकि को बच्चों का खाना बनाने के लिए नियुक्त कर दिया गया था। जिसके बाद हंगामा खड़ा हो गया था। गौरतलब बात यह है कि उन दिनों इस सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले ज्यादातर छात्र गरीब, पिछड़े और दलित समुदाय के थे। लेकिन शांति के मोहल्ले में रहने वाले कठेरिया, धोबी एवं अन्य दलित जाति के बच्चों ने भी खाने का बहिष्कार किया था।

इसलिए यह मसला केवल तथाकथित ऊँची और नीची जातियों के बीच सीमित नहीं है। बल्कि अनुसूचित जातियों में भी लोग आपस में छुआछूत मानते हैं। एक दूसरे के बर्तनों से लेकर शादी विवाह में भी इन तबकों में छुआछुत देखी जा सकती है। असल में सामाजिक विज्ञान इसे दो तरह देखता है पहला किसी समय यह गरीब और अमीर के बीच का यह फासला रहा होगा। साफ स्वच्छ रहने वाले लोग मेले कुचेले लोगों से जो समय पर अपने कपड़ों की साफ सफाई से लेकर शरीर की सफाई नहीं रखते थे उनसे फासला रखते होंगे। धीरे-धीरे समाज इसी से हिस्सों में बंटा होगा। इन्हीं कारणों से साफ सफाई का काम करने वालों को अछूत समझा जाता रहा। दूसरा छुआछुत का सर्वप्रथम कारण जातीय भावना का विकास माना जाता है। ऊँच-नीच का भाव यह रोग है, जो समाज में धीरे धीरे पनपता गया और सुसभ्य एवं सुसंस्कृत समाज की नींव को हिला दिया। इसी कारण कुछ जातियाँ अपने को दूसरी जातियों से श्रेष्ठ मानती हैं। निम्न व्यवसाय वालों को हीन दृष्टि से देखा जाता है जैसे अमेरिकी गोरे, नीग्रो जाति के लोग को हेय मानते हैं एक समय तो उन्हें अपने आस-पास नहीं फटकने देते थे।

पर समय के साथ आन्दोलन होते गये आर्य समाज ने इस बीमारी पर सबसे अधिक चोट की आज स्थिति काफी बदल गयी समय के परिवर्तन के साथ मनुष्यों के विचारों में भी परिवर्तन हुआ समाज में आर्थिक और शैक्षिक क्रांति आने के बाद आज लोगों की सामाजिक स्थिति आर्थिक तौर पर देखी जाने लगी। यह सही है कि एक समय भारतीय समाज में अनेक कुरीतियां रही हैं लेकिन अब हम सबको समझना होगा हम उस काले अतीत से बाहर आ चुके है और एक सुनहरे भविष्य की ओर आगे बढ़ रहे है। यदि ऐसी बीमारी आज भी कहीं दिखाई दे तो निसंदेह डीएम नेहा गिरी की तरह विरोध करें लोगों को जागरूक करें ताकि यह बीमारी सिर्फ इतिहास का एक हिस्सा बनकर रह जाये। अफसोस है कि सामाजिक अथवा राजनीतिक संगठनों ने इस महत्वपूर्ण मुद्दे पर कोई सक्रियता नहीं दिखाई. उल्टा वोटबेंक के लालच में इन बिमारियों को मजबूत कर समाज के गहरी खाई खोद डाली। जबकि सदियों से चली आ रही ऊंच नीच की भावनाएं एक बड़ी सामाजिक बीमारी है और इसलिए इसके निदान पर चौतरफा कार्यवाही होनी चाहिए थी।

विनय आर्य 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)