Categories

Posts

इन लोगों को आस्तिक कहे या नास्तिक

धर्म जगत की परिभाषा में नास्तिक उस व्यक्ति को समझा जाता है जो ईश्वर के अस्तित्व को नकारता है, उसके होने या न होने में संदेह पैदा करता हैं. लेकिन जो लोग ईश्वर से भी अलग किसी मजार, कब्र, मूर्ति या पीर आदि में अपार श्रद्धा और विश्वास व्यक्त करते हो उन्हें क्या कहा जाये?  देखा जाएँ तो दुनिया में सबसे अधिक तादात आज इन्ही लोगों की है. पर प्रश्न हमारी बोद्धिक क्षमता पर तब खड़ा होता जब हम यह तय न कर पाए कि इन लोगों को आस्तिक कहे या नास्तिक, धार्मिक ढोंगी कहे या अंधविश्वासी?

बहराल हाल ही में भारतीय टीम के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह अजमेर शरीफ पहुंचे. जहां उन्होंने अपने परिवार के साथ अकीदत की चादर और फूल पेश किए. बताया जा रहा हैं कि शिखर धवन अभी क्रिकेट में चोट और अच्छा न खेल पाने से दुखी है इस कारण वह रूहानी ताकतों का सहारा लेना चाह रहे है

इस रूहानी ताकत को कुछ इस तरह समझ सकते कि शिखर धवन के बल्ले के सामने गेंद आये और चौके या छक्के पर चली जाये शायद कुछ ऐसी ही ताकत वो दरगाह पर मांगने गये थे. मेरा मकसद किसी की आस्था पर सवाल करना नहीं है लेकिन क्या कोई बता सकता है कि जिसकी दरगाह है वह जीवन में कितना क्रिकेट खेले जो यह रूहानी ताकत उन्हें बक्श देंगे.? बेहतर होता शिखर धवन फिटनेस के लिए किसी अच्छे ट्रेनर और खेलने के लिए किसी अच्छे बल्लेबाज से सलाह मशविरा लेते.

भारत धार्मिक आस्थाओं के देश के रूप में जाना जाता था लेकिन अब यह धीरे-धीरे अंधविश्वास और पाखंड का देश बन चुका है. आज हम गहराई से देखें तो एक तो मजार और दुसरे कथित बाबा भारतीय समाज का अहम हिस्सा बन चुके हैं. लोगों की दैनिक की जिंदगी में कथित बाबा या पीर मजार अब एक सेवा प्रदाता कम्पनी की तरह बन चुके है. जिसको जो चाहिए वो मिल जायेगा. अर्थात यह लोग जनता को वह जरूरी सेवाएं देने का कार्य कर रहे है. जैसे फ्लिपकार्ट और स्नेपडील जैसी कम्पनी. यानि इन्हें कुछ पैसा देकर इनसे बदले में सामान के बजाय पैसा पावर, नाम, रुतबा शोहरत आदि लिया जा सकता हैं. हालाँकि गारंटी कुछ नहीं हैं एक चादर से लेकर कोई मोटी रकम चुकाकर भी आप विश्वास के सहारे ही लौट सकते है.

इन कम्पनियों के कर्मचारी जिन्हें भक्त या शिष्य कहा जाता है इनकी तारीफ इस ढंग से करते है जैसे बस इनके पास जाने की देर है इसके बाद दुनिया को अपने कदमो में झुकाना कोई बड़ी बात नहीं है. वो बताते है खर्चा कुछ खास नहीं, बस श्रद्धा से जो चढ़ाना हो चढ़ा दो बिगड़े सारे काम मिनटों में बन जायेंगे. मजार या बाबा की कृपा हुई तो झमाझम खुशियों की बरसात होगी. मुंह से निकलते ही हर मुराद पूरी होगी. इस तरह के झूठ बोलते हुए उनकी आँखों में एक विशेष चमक देखी जा सकती है.

जो मीडिया शिखर धवन के दरगाह पर जाने को जियारत बता रही है. आज इसे बहुत बड़ी भक्ति साधना और शांति के मार्ग रूप में दिखा रही हैं. कल परसों उसी मीडिया के यहाँ अंधविश्वास पर कार्यक्रम चल रहे थे. आसाराम के जेल जाने के बाद बताया जा रहा था कि गरीब लोग कैसे इन बाबाओं के झांसे में आ जाते हैं.

बाबा और अन्धविश्वास की खबरों के बीच विज्ञापन को सेंडविच की तरह परोसने वाले लोग अब क्यों नहीं बताते कि ये बाबा और मजार गरीबों ने खड़ें नहीं किये, इन्हें खड़े करने वाले लोग भी ये अमीर और सेलिब्रेटी है. ये नेता है, अभिनेता है, लेकिन गरीब जब सुख की तलाश में किसी मजार और बाबा की शरण में जाता है तो अंधविश्वास हो जाता है, लेकिन जब अमीर सुख और लालसा पाने के नाम पर किसी मजार पर जाता है तो वह  खबर धर्म शांति और सदभावना की खोज बन जाती है. इसे भी बेखोफ अंधविश्वास कहिये वरना आपकी जिम्मेदारी भी संदेह के दायरे में खड़ी दिखाई देगी.

गरीब अपनी गरीबी के लिए जिम्मेदार हो सकता है लेकिन अपने अंधविश्वास के लिए वह जिम्मेदार नहीं है उसकी जिम्मेदार है ये लोग जो सब कुछ पाने के लालच में जियारत कर चादर चढ़ा रहे है. ये लोग और मीडिया ही मिलकर बाबा खड़े करते है, पीर और मजार खड़ें करते बाद में यह लोग अपने चैनल खड़े कर समाज की धार्मिक सोच को अपने चंगुल में जकड़ लेते है. इतने बड़े समाज को प्रभावित करने वाले इन कार्यक्रमों की कोई समीक्षा पेश नहीं की जाती है.

टीवी पर सुबह खबर चल रही होती हैं कि सात जनम तक कैसे मिलेगा पैसा ही पैसा’ इस उपाय से मिलेगी अखंड लक्ष्मी, इस यंत्र और इस पूजा के तरीके से होगा बेडा पार. सोचिए कौन इस लालच में नहीं पड़ेगा. जो लोग एक जन्म में दो वक्त की रोटी के लिए दिन रात मेहनत मजदूरी कर रहे है आखिर वो इसमें क्यों निवेश न करे..?

देश में बीपीओ जैसे सेक्टर का व्यापार घट रहा हैं लेकिन बड़ी तेजी मजारों, पीरो और बाबाओं का कारोबार बढ़ रहा है. यदि रफ्तार यही रही जल्दी भारतीय अर्थ व्यवस्था भी इसी अंधविश्वास के दल-दल में लिपटी खड़ी मिलेगी. आज भारत के किसी भी छोटे शहर या कस्बे में यहाँ तक कि गांवों में यह कारोबार अपनी जड़े जमा चुका है. अमीर लोगों के अंधाधुंध धार्मिक करण का नतीजा यह हुआ कि अब हर गली में सौतन-दुश्मन से छुटकारा दिलाने वाले, जमीन जायदाद के मामले मिनटों में सुलझाने वाले, सेकण्डो में सब दुःख दर्द हरने वाले बंगाली बाबा बैठ गये. दिल्ली के जमनापार में आप किसी ओटो में बैठ जाईये हर ओटो में पांच दस बाबाओं के विजिटिंग कार्ड सीट के ऊपर नीचे जरुर मिलेंगे.

दुःख की बात ये है कि आज आम भारतीय को जीने के लिए धर्म के नाम पर पाखंड की ख़ुराक चाहिए. कोई भी सफलता पाने के लिए प्रार्थना की जगह ढोंग सिखाया जा रहा है प्रयास और आत्मविश्वास को समाप्त कर मायावी दुनिया खड़ी की जा रही है. लोग इतने डरे हुए है कि दुनियावी चुनौतियों से निपटने की अपनी शक्ति समाप्त कर चुके है……..राजीव चौधरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)